You are here
Home > देश > हमें ऐसे लोगों को दूर रखना चाहिए जो अपने पापों पर पर्दा डालने के लिए पत्रकारिता का उपयोग करते हो-श्री सोनी

हमें ऐसे लोगों को दूर रखना चाहिए जो अपने पापों पर पर्दा डालने के लिए पत्रकारिता का उपयोग करते हो-श्री सोनी

#JitendraSoni #Lokswami #Press #Mandsaur #Media

क्रांति सिर्फ अच्छे विचार वाली कलम से आती है-एसपी श्री चौधरी

समाचार पत्र संपादक संघ का भव्य दीपावली मिलन समारोह संपन्न

मंदसौर । समाचार पत्र संपादक संघ का दीपावली मिलन समारोह होटल ऋतुवन मेंआज रविवार को संपन्न हुई । इस दीपावली मिलन समारोह में संपूर्ण मंदसौर जिले से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों के संपादक, पत्रकार, इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधियों ने अपनी-अपनी सहभागिता दर्ज कराई । इस दीपावली मिलन समारोह में मंदसौर नगर के वरिष्ठ पत्रकार अशोक झलोया, महावीर अग्रवाल ने भी सहभागिता दर्ज कराई तथा संपादकों एवं पत्रकारों के साथ पत्रकारिता क्षेत्र के अनुभवों को साझा किया ।

दीपावली मिलन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में संझा लोकस्वामी इंदौर के स्वामी जितेन्द्र सोनी (जीतू सोनी), पुलिस अधीक्षक हितेश चौधरी, पूर्व मंत्री व मंदसौर विश्वविद्यालय के कुलपति नरेन्द्र नाहटा ने शिरकत की । दीपावली मिलन समारोह का शुभारंभ मुख्य अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती की पूजन अर्चन कर दीप प्रज्जवलित कर प्रारंभ किया गया ।

सर्वप्रथम प्रारंभिक उदबोधन समाचार पत्र संपादक संघ के संरक्षक औंकार सिंह ने दिया । औंकार सिंह ने कहा कि मैं वर्षों से लोकस्वामी समाचार पत्र पढ़ता आया है और इसे ही पढ़कर मैंने निर्भिक पत्रकारिता की है । सन् 2006 से लगाकर अभी तक का लोकस्वामी समाचार पत्र का रिकॉर्ड मेरे पास उपलब्ध है । तथ्यों और प्रमाणिक दस्तावेजों के साथ पत्रकारिता कैसे की जाती है वह मैंने संझा लोकस्वामी के माध्यम से सीखी है ।

मंदसौर पुलिस अधीक्षक हितेश चौधरी ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि क्रांति सिर्फ अच्छे विचार वाली कलम से आती है । गोली चालान, युध्द यह तो बस एक घटना होती है । ऐसी घटनाओं को लोग थोड़े समय बाद भूल जाते है लेकिन कलम से निकले शब्द इतिहास बना देते है । पत्रकारिता को मैं देखता हूँ, आप सभी भी देखते है, हम भी पढ़ते हुए आए, समझते हुए आए और यह यथार्त सत्य है कि पत्रकारिता स्तंभ है । हमारे देश, हमारे समाज में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ कहा जाता है । समाज को सही दिशा देने में और समाज के मस्तिष्क और मन में भावना को उत्पन्न करने में पत्रकारिता घोतक है उसमें कोई दो राय नहीं है । पत्रकारिता की आप सब लोगों ने जो जिम्मेदारी उठा रखी है वह महत्वपूर्ण है । मंदसौर क्षेत्र से मेरा पुराना नाता है और यहां की मीडिया के बारे में मैंने सुन भी रखा था और जब मैं यहां आया तो मैंने उसे देख भी लिया । मंदसौर की मीडिया द्वारा प्रकाशित समाचार, सोशल मीडिया पर उनके द्वारा की गई पोस्ट को मैं पढ़ता हूँ और उनके द्वारा दिए गए सुझावों, क्रिया-प्रतिक्रिया पर भी मेरी नजर रहती है ।

आगे पुलिस अधीक्षक श्री चौधरी ने कहा कि कुछ दिनों में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने वाला है उस फैसले के लिए हमने तो पूरी तैयारी कर ली है लेकिन इसमेंआप लोगों से भी में अनुरोध करूंगा कि अफवाहों को फैलने न दें, कहीं से कोई अफवाह उड़े तो तुरंत उसपर कटाक्ष कर उसे बढ़ने न दें । मंदसौर जिले की मीडिया का सहयोगात्मक रवैया हमेशा से रहा है और मैं यह आशा करता हूँ कि आने वाले इस फैसले पर मीडिया जिला एवं पुलिस प्रशासन का पूरी तरह से सहयोग करेगी ।

पूर्व मंत्री एवं मंदसौर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति नरेन्द्र नाहटा ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि मंदसौर अफीम का उत्पादक रहा है किन्तु अब यहां से शूटर उत्पन्न हो रहे है । मंदसौर शहर शांति का टापू था इसलिए यह प्रसास होने चाहिए कि यहां पुनः शांति स्थापित हो ।

उदबोधन की इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए संझा लोकस्वामी के जितेन्द्र सोनी ने कहा कि वैसे में कार्यक्रमों में जाता नहीं हूँ लेकिन जब कार्यक्रम पत्रकारिता से जुड़ा हुआ होता है तो मैं जरूर उसमें समय देता हूँ । अखबार की प्रसिध्दि कलर या उसकी साईज से नहीं होती है बल्कि अखबार में क्या खबर छपी है उससे होती है । पत्रकारिता में केवल वही सफल हो पाता है जो खुद को संपादक न मानते हुए पत्रकार माने । मैं अपने आप को पत्रकार ही मानता हूँ । उन्होंने अपने उदबोधन के दौरान मीडिया के साथियों के साथ यह भी साझा किया कि उन्होंने पत्रकारिता को अपना कार्यक्षैत्र किन परिस्थितियों के कारण चुना और पत्रकारिता के क्षेत्र में संघर्ष कर किन-किन आयामों को छुआ और अखबार को जिंदा रखा और जिस मिशन से पत्रकारिता क्षेत्र में आये और उस मिशन को हमने पूरा-पूरा कामयाबी तक पहुंचाया ।

श्री सोनी ने कहा कि अगर वास्तव में हम पत्रकारिता की बात करते है, पत्रकारिता के उत्थान की बात करते है, पत्रकारिता की भविष्य की बात करते है तो हमें ऐसे लोगों को दूर रखना चाहिए जो अपने पापों पर पर्दा डालने के लिए पत्रकारिता का उपयोग करते हो ।

इस अवसर पर विशेष रूप से औंकारसिंह, उमेश नेक्स, संदीप शर्मा, योगेश पोरवाल, अनिल जोशी, मनीष पुरोहित, भारतसिंह तोमर, राजपाल सिंह परिहार, भारत सिंह तोमर, राजेश पाठक, विपीन चौहान (गोलू), पिन्टू शर्मा, राधेश्याम मारू, रूपेश सौलंकी, चरण राजपाल, धर्मेन्द्र रानेरा, जफर कुरैशी, रमेश माली, बबलू सूर्यवंशी, चित्रेश सोनी, गोपाल मंगोलिया, महावीर जैन, कोमलसिंह तोमर, नरेन्द्र धनोतिया, जितेश जैन, देवेन्द्र यादव, देवेन्द्र मौर्य, प्रीतिपालसिंह राणा,  सुरेश गुप्ता, गोपाल मालेचा, मोहसीन कुरैशी, मनोहर सौलंकी, अजयसिंह तोमर, निलेश शुक्ला, पंकज जैन, राकेश सेन सम्राट, अजय सोनी, सावन राजपूत, हेमंत राठौर, देवीलाल गुर्जर, लक्ष्मीनारायण मांदलिया, सुरेन्द्र यादव, विक्रम सिसौदिया, जितेश जैन, देवेन्द्र यादव, अहसास अजमेरी, प्रकाश बंसल, जगदीश पंडित आदि जिले के संपादकगण, पत्रकारगण, इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधि उपस्थित थे । समारोहका संचालन ओमप्रकाश बटवाल ने किया एवं आभार समाचार पत्र संपादक संघ के अध्यक्ष राधेशम बैरागी ने माना ।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top