You are here
Home > देश > पंजाब: ’मैं भी हरजीत’ के बैज लगाकर हरजीत सिंह को उनकी बहादुरी के लिए सलाम किया पंजाब पुलिस ने

पंजाब: ’मैं भी हरजीत’ के बैज लगाकर हरजीत सिंह को उनकी बहादुरी के लिए सलाम किया पंजाब पुलिस ने

चंडीगढ़। पंजाब पुलिस विभाग ने सोमवार को ‘मैं भी हरजीत’ के बैज लगाकर सब इंस्पेक्टर हरजीत सिंह को उनकी बहादुरी के लिए सलाम किया। डीजीपी दिनकर गुप्ता ने भी उनके नाम का बैज लगाया। हरजीत सिंह इस समय चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती हैं। 12 अप्रैल को पटियाला में कर्फ्यू पास मांगने के दौरान भड़के निहंगों ने हरजीत पर हमला करके तलवार से उसकी कलाई काटकर अलग कर दी थी। हालांकि, बाद में पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टरों ने साढ़े सात घंटे तक चले ऑपरेशन में कलाई को जोड़ दिया था।

हरजीत सिंह का प्रमोशन हुआ
डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि हरजीत सिंह को पदोन्नत करके एएसआई से सब-इंस्पेक्टर बना दिया गया है। बहादुरी और शांति का परिचय देकर वो देश में कोरोना वॉरियर्स पर हो रहे हमलों के खिलाफ एक प्रतीक बन गए हैं। उनके प्रति सम्मान दिखाने के लिए ये पंजाब पुलिस का एक छोटा सा प्रयास है।

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि हरजीत सिंह के साथ हुए हादसे के मद्देनजर कोरोना वॉरियर्स के प्रति सम्मान दिखाने के लिए ‘मैं भी हरजीत’ कैंपेन चलाया गया है। इस कैंपेन के समर्थन में सभी अधिकारी हरजीत सिंह के नाम की नेम प्लेट पहने नजर आ रहे हैं।

गुजरात के डीजीपी ने भी की तारीफ
गुजरात के डीजीपी ने पंजाब पुलिस के इस कैंपेन की सराहना की। उन्होंने एसआई हरजीत सिंह को पुलिस विभाग की प्रतिबद्धता का प्रतीक बताते हुए उनकी बहादुरी को सराहा। उन्होंने कहा कि उन्होंने मुश्किल वक्त में जिस तरह की हिम्मत और धैर्य दिखाया, वह काबिलेतारीफ है। पुलिस जवानों को उनसे प्रेरणा लेते हुए अपनी ड्यूटी व जिम्मेदारियों को पूर्ण समर्पण भाव से निभाना चाहिए।

पठानकोट के एसएसपी ने भी सराहा
पठानकोर्ट के एसएसपी दीपक हिलोरी ने कहा कि हरजीत सिंह ने बहादुरी का परिचय देकर पुलिस जवानों में एक जोश भरा है। वे जवानों के लिए मिसाल बनकर उभरे हैं। उनके जीवन से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए कि चाहे कुछ भी हो जाए, ड्यूटी पर डटे रहेंगे। जनसेवा करते रहेंगे, जो हमारा पहला कर्तव्य है। हमें हरजीत सिंह के नाम का बैज लगाकर काफी गर्व महसूस हो रहा है।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top