You are here
Home > राज्य और शहर > मंदसौर एसपी, एडिशनल एसपी का गोपनीय अभियानः कच्ची शराब बनाने वालों पर चला पुलिस का डंडा, भारी मात्रा में कच्ची शराब जप्त

मंदसौर एसपी, एडिशनल एसपी का गोपनीय अभियानः कच्ची शराब बनाने वालों पर चला पुलिस का डंडा, भारी मात्रा में कच्ची शराब जप्त

मंदसौर, 16 July। मंदसौर एसपी सिद्धार्थ चौधरी के निर्देशन में आज सुबह एडिशनल एसपी मनकामना प्रसाद ने थानों में पदस्थ आरक्षकों को साथ न लेते हुए लाईन में तैनात आरक्षकों की टीम को लेकर कच्ची शराब बनाने वालों की भट्टीयों पर धावा बोला तथा यहां से भारी मात्रा में कच्ची शराब जप्त की। सुबह अचानक से हुई इस कार्रवाई से कच्ची शराब बनाने वालों में हड़कम्प मच गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आज सुबह मंदसौर के एडिशनल एसपी मनकामना प्रसाद ने लाईन में तैनात पुलिस जवानों की एक टीम लेकर व्हायडी नगर थाना क्षेत्र के गांव डोडियामीणा में कच्ची शराब बनाने वालों की भट्टी पर धावा बोला। यहां पर पुलिस ने भारी मात्रा में कच्ची शराब जप्त की। सुबह की पहली किरण के साथ अचानक से हुई इस कार्रवाई से कच्ची शराब बनाने वालों में हड़कम्प सा मच गया। अभी मौके पर कार्रवाई जारी है। कितनी मात्रा में कच्ची शराब जप्त हुई है इसका खुलासा थोड़े समय बाद हो जाएगा।

गोपनीय तरीके से की कार्यवाही

मंदसौर एसपी सिद्धार्थ चौधरी एवं एडिशनल एसपी मनकामना प्रसाद के पास डोडीयामीणा में कच्ची शराब बनाने की भट्टी की सूचना पहले से आ गई थी। एसपी श्री चौधरी एवं एडिशनल एसपी श्री प्रसाद ने सूचना को गोपनीय रखा और गोपनीय रूप से ही कार्रवाई को अंजाम देने की योजना बनाई। योजना का प्रथम चरण यह था कि इस कार्रवाई की सूचना व्हायडी नगर थाना पुलिस के कानों तक नहीं पहुंचे इसके लिए रात को ही पुलिस लाईन में जवानों की एक टीम को सुबह 6 बजे तैयार रहने के आदेश दे दिए थे। उसके बाद व्हायडी नगर थाने के एसआई बापूसिंह बामनिया और एएसआई संजय प्रताप सिंह को भी सिर्फ इतना कहा गया था कि सुबह 6 बजे तैयार रहना । कहां जाना है ? किधर जाना है ? इस बात को अंत समय तक गोपनीय रखा गया । सुबह 6 बजे पुलिस लाईन के जवानों की टीम और एसआई बामनिया और एएसआई संजय प्रतापसिंह को डोडीयामीणा भेजा और कार्रवाई के आदेश दे दिए। न कच्ची शराब बनाने वालों को भागने को मौका मिला और न ही पुलिस दबिश की सूचना उन तक पहुंच पाई और भारी मात्रा में कच्ची शराब पकड़ने की सफलता पुलिस को मिल गई।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top