You are here
Home > देश > कश्मीरी माताएं कराएं आतंकी बेटों को सरेंडर, वर्ना जो बंदूक उठाएगा वो मारा जाएगा : सेना

कश्मीरी माताएं कराएं आतंकी बेटों को सरेंडर, वर्ना जो बंदूक उठाएगा वो मारा जाएगा : सेना

श्रीनगर । जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर कार बम हमले में पाकिस्तान का हाथ था। इसमें पाकिस्तानी सेना और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई शामिल थी। पुलवामा मुठभेड़ में सोमवार को मारा गया पाकिस्तानी आतंकी कामरान घाटी में आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद का स्वयंभू मुख्य ऑपरेशनल कमांडर था और पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड था। यह खुलासा सेना की श्रीनगर स्थित 15वीं कोर के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल जेएस ढिल्लन ने किया है।

जीओसी ने मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि पुलवामा हमले को जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया। पाकिस्तानी सेना व आईएसआई की मदद से पाकिस्तान का इस पर नियंत्रण है। एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदी कार से काफिले की एक बस को टक्कर मार दी। कश्मीर में यह इस तरह की पहली घटना थी। इस तरह की घटना यहां पहले कभी नहीं हुई। हालांकि, सीरिया, अफगानिस्तान और पाकिस्तान में ऐसी घटनाएं होती रही हैं। अब यहां भी आतंकियों की ओर से इस माडस आपरेंडी का इस्तेमाल किया जाने लगा है। नए खतरे को देखते हुए इसके अनुरूप रणनीति बनाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पाकिस्तानी सेना का बच्चा है। इसे उसने खड़ा किया है। इस पर पाकिस्तानी सेना तथा आईएसआई का नियंत्रण है। इसमें पाकिस्तानी सेना की 100 प्रतिशत संलिप्तता है, इसमें कोई संदेह नहीं है। सोमवार को पुलवामा के पिंगलीना में हुई मुठभेड़ के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसमें कामरान सहित जैश के तीन आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया। कामरान घाटी में आतंकवादी संगठन का स्वयंभू मुख्य ऑपरेशनल कमांडर था और पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड था।

सूचना के आधार पर रविवार की देर रात इस माड्यूल को घेरा गया। कार बम हमले के 100 घंटों के भीतर ही कश्मीर में जैश के नेतृत्व का सफाया कर दिया गया। 14 फ रवरी को हमले के बाद से ही सुरक्षा बल जैश के शीर्ष नेतृत्व पर नजर रख रहे थे। पत्रकार वार्ता में उनके साथ आईजी पुलिस एसपी पाणि और सीआरपीएफ के आईजी जुल्फि कार हसन भी थे।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top