You are here
Home > राज्य और शहर > दहेज लोभी को 6 माह का कठोर कारावास

दहेज लोभी को 6 माह का कठोर कारावास

नीमच। मनीष कुमार पारीक, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा एक आरोपी को पत्नी को 5,00,000रू. दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करने के आरोप का दोषी पाकर 6 माह के कठोर कारावास एवं 2,000रू. जुर्माने से दण्डित किया।
जिला लोक अभियोजन अधिकारी आर. आर. चौधरी द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि फरियादीया प्रियंका जैन, निवासी क्लासिक क्रॉउन कॉलोनी, नीमच का विवाह फरवरी 2014 में ग्राम सरवानिया महाराज निवासी आरोपी रूपेन्द्र जैन से हुआ था। फरियादीया विवाह के समय उसके पिता ने क्षमतानुसार नगद रूपया, गृह उपयोगी सामग्री तथा सोने-चॉदी के आभूषण उपहार स्वरूप दिये थे। विवाह के बाद से ही आरोपी 5,00,000रू. दहेज की मांग को लेकर फरियादीया को प्रताड़ित करने लगा, तब फरियादीया के पिता विजय कुमार जैन ने दिसम्बर 2014 में आरोपी को 1,00,000रू. दिये किंतु उसके बाद भी शेष 4,00,000रू. के लिए आरोपी, फरियादीया को प्रताड़ित करता रहा, जिससे परेशान होकर फरियादीया दिनांक 26.01.2015 को उसके पिता के घर पर चली गई। दिनांक 30.05.2015 को आरोपी ने फरियादीया के पिता के घर पर आकर 4,00,000रू. की मांगकर कहा कि अगर रूपये नहीं दिये तो तलाक दे दूंगा। फरियादीया ने घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना नीमच सिटी में कि जिस पर से आरोपी के विरूद्ध अपराध क्रमांक 246/15, धारा 498ए भादवि के अंतर्गत पंजीबद्ध किया गया। पुलिस नीमच सिटी द्वारा विवेचना उपरांत चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
श्रीमती कीर्ति चाफेकर, ए.डी.पी.ओ. द्वारा अभियोजन पक्ष की ओर से न्यायालय में फरियादीया सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान कराकर आरोपी द्वारा 5,00,000रू. दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित किये जाने का अपराध प्रमाणित कराया गया तथा दण्ड के प्रश्न पर तर्क दिया कि वर्तमान युग में भी दहेज लोभियो के कारण महिलाएॅ सुरक्षित नही हैं, इसलिए आरोपी को कठोर दण्ड से दण्डित किया जाये। श्री मनीष कुमार पारीक, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा आरोपी रूपेन्द्र पिता हिम्मतसिंह जैन, उम्र-33, निवासी-ग्राम सरवानिया महाराज, जिला नीमच को धारा 498ए भादवि (दहेज मांग को लेकर प्रताड़ित करना) में कुल 6 माह के कारावास व 2,000रू. जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्रीमति कीर्ति चाफेकर, एडीपीओ द्वारा की गई ।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top