You are here
Home > राज्य और शहर > मप्र में 104 वर्ष के स्वतंत्रता सेनानी ने जीत ली कोरोना से जंग, मजबूत इच्छाशक्ति से जीती जंग

मप्र में 104 वर्ष के स्वतंत्रता सेनानी ने जीत ली कोरोना से जंग, मजबूत इच्छाशक्ति से जीती जंग

बैतूल, 25 अप्रैल। जब इरादा और इच्छाशक्ति मजबूत हो तो इंसान क्या नहीं कर सकता है, ऐसा ही असंभव को संभव कर दिखाया बैतूल के 104 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी बिरदीचंद्र जी गोठी ने। जी हां, 104 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी ने कोरोना से जंग जीत ली है ।

जानकारी के अनुसार करीब 20 दिन पूर्व बिरदीचंद जी गोठी कोरोना संक्रमित हो गए थे। डॉक्टरों के परामर्श से उन्हें परिवारजन से घर में ही आइसोलेट कर उपचार शुरू कर दिया था। युवा अवस्था के दौरान में जिन जज्बे के साथ उन्होंने अंग्रेजों से लोहा लिया था, उसी जज्बे और ऊर्जा के साथ 104 वर्ष की उम्र में कोरोना से भी जंग जीत ली।

पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद उन्होंने कहा कि कोरोना से डरने की कोई जरूरत नहीं है, बल्कि हमें इससे लड़ना और जीतना है। घर के आसपास कुछ लोगों को कोरोना हो गया था। संभवतः बाहर से आने वालों के कारण मुझे भी संक्रमण हो गया। सादा जीवन, सादा खाना और डॉक्टरों की मदद से मैं ठीक हो गया हूं। घर में रहकर ही इलाज हुआ। परिवार के लोगों ने मेरी बहुत सेवा की।

गौरतलब है कि आजादी की लड़ाई के दौरान वर्ष 1930 में बैतूल जिले में जंगल सत्याग्रह की शुरुआत हुई थी। तब बिरदीचंद गोठी समेत करीब 400 लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और जेल भी गए थे।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top