You are here
Home > मध्यप्रदेश > 20 वर्षों से नहीं हुई अर्जुन नगर के प्लाटों की रजिस्ट्री…!

20 वर्षों से नहीं हुई अर्जुन नगर के प्लाटों की रजिस्ट्री…!

अर्जुन नगर के रहवासी आवेदन लेकर पहुंचे एसपी श्री हितेश चौधरी के पास

मंदसौर। मंदसौर नगर तथा जिले में ऑपरेशन माफिया के सफाया के तहत कलेक्टर श्री मनोज पुष्प एवं पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी की अगुवाई में कई दमदार कार्यवाहियां हुई । यह ऐसी कार्यवाहियां थी जिनकी परिकल्पना शायद कभी सोची भी नहीं जा सकती थी लेकिन प्रदेश के मुखिया श्री कमलनाथ के ऑपरेशन माफिया को मंदसौर जिले के कलेक्टर श्री मनोज पुष्प एवं पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी ने सार्थक कर दिखाया ।

ऑपरेशन माफिया के सफाया के चलते अब आम जनता जो लम्बे समय से भू-माफियाओं के मायाजाल में फंसीहुई थी अब वह भी मायाजाल से बाहर निकलकर कलेक्टर एवं एसपी के दरबार में न्याय की गुहार लेकर पहुंच रही है । मंदसौर नगर तथा जिले की जनता की उम्मीद ही नहीं बल्कि पूर्ण विश्वास है कि जिस प्रकार कलेक्टर श्री मनोज पुष्प एवं पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी ने जिले में माफिया का सफाया किया है उसी प्रकार  वह उनकी भी पूर्ण रूप से मदद करेंगे ।

ताजा मामला मंदसौर-सीतामऊ रोड़ स्थित कृषि उद्यानिकी महाविद्यालय के आगे बाजखेड़ी पंचायत से पहले अर्जुन नगर का आया है । यह अर्जुन नगर वर्ष 2000 में बना था और इस अर्जुन नगर में करीब 200 प्लाट काटे गए थे जो करीब-करीब सभी बिक गए थे । अर्जुन नगर जिस कॉलोनाईजर ने काटा था वह नाहरगढ़ का निवासी हरिसिंह था । हरिसिंह ने वर्ष 2000 में प्लाट काटकर विक्रय तो कर दिए थे लेकिन जिन लोगों ने प्लाट खरीदे थे उनकी रजिस्ट्रीयां नहीं कराई थी । जब भी रजिस्ट्री कराने की बात आती तो हरिसिंह रजिस्ट्री की बात को हाँ करवा देंगे…करके टाल जाता था और टालते-टालते 20 साल व्यतीत हो गए लेकिन आज दिनांक तक अर्जुन नगर में विक्रय किए गए प्लाटों की रजिस्ट्री नहीं हुई !

अर्जुन नगर में प्लाट क्रय करने वाले दो-तीन लोगों ने हिम्मत करके पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी को कॉलोनाईजर हरिसिंह द्वारा 20 वर्षों से रजिस्ट्री नहीं कराने जाने को लेकर आवेदन दिया । पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच करने के आदेश दिए । सर्वप्रथम तो आवेदनों पर जांच हेतु मामला नाहरगढ़ थाने पहुंचा क्योंकि कॉलोनाईजर हरिसिंह नाहरगढ़ का निवासी था लेकिन उसके बाद नाहरगढ़ टीआई ने अर्जुन नगर को मंदसौर सीमा क्षेत्र में होने का बताया तो जांच थाना नईआबादी पहुंची ।

वर्तमान में इस मामले की जांच नई आबादी थाने में पदस्थ एस.आई. मोतीराम कर रहे है । एस.आई. मोतीराम से जब मामले के संबंध मेंजानकारी चाही गई तो उन्होंने बताया कि इस मामले में अभी तक 8 आवेदन आ चुके है । कॉलोनाईजर हरिसिंह को भी थाने में उपस्थित होने के लिए फोन किया गया था लेकिन हरिसिंह बाहर थे, एक-दो दिन में हरिसिंह थाने में उपस्थित हो जाएंगे । बाकि अन्य बिन्दूओं पर जांच जारी है ।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Top