You are here
Home > मध्यप्रदेश > रेत ठेकों के नाम पर तानाशाही पूर्ण वसूली पर लगे रोक

रेत ठेकों के नाम पर तानाशाही पूर्ण वसूली पर लगे रोक

ठेकों की स्पष्ट जानकारी जनता के बीच दे प्रशासन

विधायक श्री देवड़ा ने परेशानी को लेकर कलेक्टर से की चर्चा

मंदसौर । रेत ठेकों के नाम पर गांव-गांव तानाशाहीपूर्ण वसूली का दौर चल गया है। अभी ठेकों को लेकर कुछ भी स्पष्ट निर्देश या नोटिफिकेशन नहीं आया है। मगर ठेकेदार एवं उनके नाम पर गांव-गांव मनमानी वसूली की जा रही है। इससे लोग परेशान हैं और फर्जी रसीदों के सहारे वसूलियां की जा रही हैं। इसे लेकर मैने कलेक्टर मंदसौर से चर्चा कर उन्हें इस दिशा में प्रभावी कार्रवाई एवं जनता में स्पष्ट जानकारी दिए जाने की बात कही है।

यह जानकारी देते हुए पूर्व मंत्री एवं मल्हारगढ विधायक श्री जगदीश देवड़ा ने अवगत करवाया कि ग्रामीण क्षैत्रों में दौरे के समय उन्हें लगातार इसकी जानकारी आम जन से मिल रही थी।

श्री देवड़ा ने बताया कि ग्रामीण क्षैत्रों में दौरे के दौरान उन्हें ग्रामीणों द्वारा रसीदें उपलब्ध करवाई गई। ग्रामीणों से शिकायत मिली कि उनसे वसूली की जा रही है, वह भी अलग-अलग दर, कोई 1200, कोई 1500 कोई 2200 तो कोई 2700 रूपए वसूल रहा है। मैने इन रसीदों को एसडीएम रोशनी पाटीदार को भेजा, उन्होंने भी इसके फर्जी होने की शिकायत की। मैरे द्वारा कलेक्टर मनोज पुष्प से विस्तृत चर्चा कर इस विषय की गंभीरता से अवगत करवाय गया।

श्री देवड़ा ने कहा कि उन्होंने प्रशासन से अपेक्षा व्यक्त की है कि वे सार्वजनिक सूचना जारी कर यह स्पष्ट करें कि किसी व्यक्ति या कंपनी का कहां का ठेका हुआ है, उसका कार्यक्षैत्र कौन सा है, कितनी रॉयल्टी वसूली जा सकती है। इसके बिना ही फर्जी रसीदों से हो रही वसूली ना सिर्फ रोकी जानी चाहिए, बल्कि इस पर कार्रवाई भी की जानी चाहिए ।

श्री देवड़ा ने कहा कि ग्रामीण क्षैत्रों में हो रही इस तानाशाही और अवैध वसूली पर तुरंत रोक लगाई जानी चाहिए। प्रशासन को इस दिशा में तुरंत कार्रवाई करना चाहिए।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Top