You are here
Home > मध्यप्रदेश > खनिज माफियाओं का एक और फर्जीवाड़ा, कार्रवाई की हिम्मत नही जुटा पा रहा प्रशासन !

खनिज माफियाओं का एक और फर्जीवाड़ा, कार्रवाई की हिम्मत नही जुटा पा रहा प्रशासन !

पुरानी दिनांक की ऑनलाइन रसीदों को एडिट कर भेजा रहा रेत वाहन चालकों को मैसेज

मंदसौर/पिपलियामंडी । रेत खनन में फर्जी रसीदों का मामला सामने आने के बाद प्रशासन रेत लेकर जा रहे वाहनों को पकड़कर इतिश्री कर रहा है, जबकि धौखाधड़ी व अवैध वसूली करने वाले माफियाओं के आगे प्रशासन नतमस्तक है। फर्जी रसीदों पर अभी तक प्रशासन ने कोई एक्शन नही लिया है। खनिज विभाग के नियमों के अनुसार 125 रुपए क्यूबिक मीटर रायल्टी ऑनलाइन लेने का प्रावधान है। साथ ही जहां प्रस्तावित खनन की परमिशन है, उसी जगह की रायल्टी वसूली जा सकती है। लेकिन मल्हारगढ़ क्षेत्र में तथाकथित खनिज ठेकेदारों के गुर्गों द्वारा भारी मात्रा में अवैध रसीद कट्टे छपवाकर रेत लेकर जा रहे वाहनों 1200 से 2000 रुपए की भारी लूट की जा रही है।

भाजपा नेता भरत जोशी ने बताया जहां कांग्रेस चुनाव से अवैध खनन के मुद्दे को लेकर आए दिन आंदोलन व धरना प्रदर्शन कर रही थी, वहीं प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही कांग्रेस नेता ही अवैध खनन कारोबार में जुट गए है। वहीं जिला खनिज विभाग के अधिकारियों व प्रशासन की मिलीभगत के चलते लाखों रुपए की रायल्टी चोरी कर शासन को चूना लगाया जा रहा है। जोशी ने बताया इसी संबंध में अनुविभागीय अधिकारी रोशनी पाटीदार को भी अवगत कराया है। जिसमें बताया पुरानी तिथि का मेसेज एडिट कर रेत लेकर जा रहे वाहन चालकों को रायल्टी के नाम पर मोबाइल पर पुरानी दिनांक का मेसैज भेजा रहा है, खनिज माफिया फर्जीवाड़े में फर्जी रसीद में दिनांक भी बदलना भी भूल गए। जो कि बड़ा फर्जीवाड़ा है। जोशी ने आगे बताया कुछ दिनों पूर्व प्रशासन ने माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कर खूब वाहवाही बटोरी, लेकिन इसके विपरित खनिज माफियाओं को संरक्षण दिया जा रहा है, इतना बड़ा मामला सामने आने के बाद भी प्रशासन कार्रवाई की हिम्मत नही जुटा पा रहा है, कार्रवाई के नाम पर मजदूरी करने वाले वाहन चालकों पर प्रकरण बनाकर दबाने की कौशिश की जा रही है। जिले में प्रतिदिन 500 से अधिक ट्राली रेल परिवहन हो रहा है। जोशी ने इस मामले में मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं खनिज मंत्री प्रदीप जैसवाल को भी फर्जी रसीदों की छायात्राप्रति भेजकर पत्र लिखकर अवगत कराया है ।

खनिज अधिकारी नही कर पा रहे कॉल रिसिव

मामले को लेकर जिला खनिज अधिकारी मेजरसिंह जमरा से लगातार चर्चा करने की कौशिश की जा रही है, लेकिन वे मोबाइल कॉल रिसिव नही करते है, इससे साफ जाहिर है कि इस प्रकरण में उनकी भूमिका भी संदिग्ध है।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Top