You are here
Home > धर्मं > बावड़ी का जलस्तर बढ़ते ही होता है महादेव का जलाभिषेक

बावड़ी का जलस्तर बढ़ते ही होता है महादेव का जलाभिषेक

महाशिवरात्रि उत्सवः 1 क्विटल लड्डू की महाप्रसादी, बटेगी ठंडाई

मंदसौर । गणपति चौक जनकुपूरा स्थित प्राचीन बावड़ी में स्थित श्री जलेश्वर महादेव मंदिर पर महाशिवरात्रि पर्व उत्साह एवं उल्लास के साथ मनाया जाएगा । मंदिर समिति द्वारा ठंडाई एवं ड्रायफ्रूट की प्रसादी का वितरण किया जाएगा । तैयारियां पूर्ण कर ली गई है । मंदिर की आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की जा रही है।

मंदिर समिति के पूर्व पार्षद ओमप्रकाश सोनी, अशोक मंडोवरा (ठाकुर साहब) एवं मुकेश नाहर ने बताया कि श्री जलेश्वर महादेव का यह मंदिर अतिप्राचीन है । महाशिवरात्रि 21 फरवरी शुक्रवार को शाम 4 बजे से 1 क्विंटल ठंडाई का वितरण किया जाएगा । तत्पश्चात रात्रि 8.30 बजे भगवान महादेव की महाआरती के उपरांत 1 क्विंटल ड्रायफ्रूट के लड्डू का वितरण होगा । आयोजन समिति के भरत सोनी, निलेश पामेचा, संजय चौरड़िया, अंकित अग्रवाल, पंकज पोरवाल, हरिश सोनी, राजेन्द्र मरेन्डिया, अजय मित्तल कंपनी एवं दिनेश दसलानिया ने आयोजन में उपस्थित रहने की नगरवासियों से अपील की है ।

बावड़ी का जलस्तर बढ़ते ही होता है जलाभिषेक

समिति ने बताया कि नगर के सबसे प्राचीन शिवालय की गिनती में श्री जलेश्वर महादेव मंदिर भी आता है । यहां यह शिवलिंग प्राचीन बावड़ी के निकट स्थापित है । जब-जब बावड़ी के पानी का जलस्तर बढ़ता है भगवान शिव का जलाभिषेक स्वयं होता रहता है । इस वर्षाकाल से लेकर अभी तक बावड़ी के पानी का जलस्तर शिवलिंग तक बना हुआ है । मोटर लगाकर यदि पानी खाली नहींकिया जाए तो मंदिर गर्भगृह में पहुंचना मुश्किल हो जाता है । मंदिर परिसर में ही भगवान श्री गणेश की आर्कषक खड़ी प्रतिमा भी विराजमान है । समिति ने अपील की है कि चमत्कारिक श्री जलेश्वर महादेव मंदिर पहुंचकर दर्शन लाभ लें ।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Top